मित्रो,

हिन्दीज्ञान वेबसाइट CISCE हिन्दी के पाठ्यक्रम के साथ अपने नए रूप में आप सबके सामने प्रस्तुत है। यह साइट हिन्दी शिक्षकों के साथ-साथ विद्‌यार्थियों के लिए भी लाभकारी है। यहाँ विद्‌यार्थियों को हिन्दी पाठ्यक्रम से संबंधित विभिन्न कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास तथा व्याकरण की जानकारी प्राप्त होती है। परीक्षा को ध्यान में  रखते हुए लेखक-परिचय, कठिन शब्दार्थ, पंक्तियों पर आधारित प्रश्नोतर, विस्तृत उत्तरीय प्रश्न आदि का भी समावेश किया गया है जिसका उपयोग कर विद्‌यार्थी अच्छे अंकों के साथ परीक्षा उत्तीर्ण कर पाने में सक्षम हो रहे हैं। शिक्षको के लिए भी विभिन्न पाठों का विश्लेषणात्मक अध्ययन और उनसे जुड़े कई तरह के प्रश्नों के उत्तर खोजने का भी प्रयास किया जा रहा है।हिन्दीज्ञान हिन्दी शिक्षण में आधुनिक तकनीकों के प्रयोग का खुलकर समर्थन करता है और इसके लिए हर संभव प्रयास करता है।

Webinar

आज कोराना के कहर से हमारे शहर थम से गए हैं और इसका सबसे ज़्यादा प्रभाव विद्यालयों और शिक्षण-गतिविधियों पर पड़ रहा है। शिक्षकों के समक्ष नई चुनौतियाँ हैं जिसका सामना करना है। अपने विद्यार्थियों को पढ़ाने के लिए हमें न केवल Online Teaching के विविध तकनीकों से परिचित होना होगा बल्कि हर दिन अपने आपको Update भी करना होगा।

आप सभी को यह सूचित करते हुए अत्यंत हर्ष का अनुभव हो रहा है कि हिन्दीज्ञान और हिन्दी का कार्य वेबसाइट्स संयुक्त रूप से 21 मई, 2020 ( 3:00 - 4:00 p.m.) को एक Webinar का आयोजन करने जा रहे हैं। इस वेब सेमिनार में हम Online Evaluation और Online Subject based Quiz Creating Tools in Hindi के बारे शिक्षकों से अपने अनुभव साझा करेंगे। इस Webinar में शामिल होने के लिए  अपना नाम पंजीकृत (Registered) करवाना अनिवार्य है। 
पंजीकरण (Registration) के लिए अंतिम तारीख 20 मई, 2020 है।

यह पंजीकरण नि:शुल्क है। 

सिर्फ़ 50 प्रतिभागी ही शामिल हो सकते हैं। पंजीकरण First come first serve पर आधारित है।

कबीरदास

(1398-1495)

कबीरदास हिन्दी साहित्य की संत काव्यधारा के प्रतिनिधि कवि हैं। कबीर संत, कवि और समाज सुधारक थे जिन्होंने  तत्कालीन समाज में व्याप्त धार्मिक कुरीतियों, मूर्ति-पूजा, कर्मकांड तथा बाहरी आडंबरों का जोरदार तरीके से विरोध किया। कबीर ने हिन्दू-मुसलमान ऐक्य का खुला समर्थन किया। कबीर के दोहों में गुरु-भक्ति, सत्संग, निर्गुण-भक्ति तथा जीवन की व्यावहारिक आदि विषयों पर बल दिया गया है। कबीर की वाणी का संग्रह 'बीजक' के नाम से प्रसिद्‌ध है। इसके तीन भाग हैं - साखी, सबद और रमैनी।

Quiz जिसे हिन्दी में प्रश्नोत्तरी भी कहते हैं, शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का बहुत ही रोचक और जानवद्‌र्धक माध्यम है जिसके प्रयोग से शिक्षक विद्‌यार्थियों में विषय के प्रति  रुचि उत्पन्न करते हुए शैक्षणिक उद्‌देश्य को भी बड़ी सहजता से प्राप्त कर सकते हैं।

हम यहाँ CISCE हिन्दी पाठ्यक्रम को ध्यान में रखते हुए कुछ ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी मुहैया करवा रहे हैं और हमें पूर्ण विश्वास है कि हमारा यह प्रयास शिक्षकों और विद्‌यार्थियों को पसंद आएगा। यह विद्‌यार्थियों के स्व-मूल्यांकन में अत्यंत सहायक है।

मुहावरा

मुहावरा

बड़े घर की बेटी

सूर के पद

चलना हमारा काम है

बहू की विदा

नया रास्ता

हिन्दी भाषा

की

सामान्य जानकारी

महायज्ञ का पुरस्कार

संस्कार और भावना

हमारी आवाज़

तुम कहते संघर्ष कुछ नहीं - सौमित्र आनंद
00:00 / 00:00
पानी में घिरे लोग - सौमित्र आनंद
00:00 / 00:00
वह जन्मभूमि मेरी - ऋतु सिंह
00:00 / 00:00
तुम कहते संघर्ष कुछ नहीं - शिवम पोद्‌दार
00:00 / 00:00
काकी - निशा, ऋतु, श्वेता, सौमित्र
00:00 / 00:00
संदेह - निशा, ऋतु, श्वेता, सौमित्र
00:00 / 00:00

हमारे सहयोगी

विशाल सिंह

हिन्दी विभागाध्यक्ष

दिल्ली पब्लिक स्कूल, न्यूटाउन

कोलकाता

’हिन्दी शिक्षण को आधुनिक तकनीक से जोड़ने के लिए प्रतिबद्‌ध'

प्रीति मिश्रा

हिन्दी शिक्षिका

कोलकाता

'कक्षा-शिक्षण को विद्‌यार्थी -केन्द्रित विविध गतिविधियों से जोड़ना बेहद जरूरी है'

अश्विनी कुमार

हिन्दी शिक्षक

दिल्ली पब्लिक स्कूल, न्यूटाउन

कोलकाता

'विद्‌यार्थी हिन्दी के रचनाकारों को सहजता से पहचान सकें'

CONTACT

US

Monday - Saturday

05:00 - 10:00 P.M.

kasamhindi@gmail.com

© 2020 by Saumitra Anand & Hindijyan